Skip to main content

देवघर बाबाधाम में लगता है दुनिया का सबसे लंबा धार्मिक मेला

इस बार 25 जुलाई रविवार से सावन का पावन महीना शुरू हो रहा है, जो 22 अगस्त रविवार तक रहेगा। सावन का नाम आते ही दिमाग में बाबा भोलेनाथ के कांवड यात्रा की बात घूमने लगती है। हर साल सावन के महीने में लोग कांवड़ लेकर बाबा भोलेनाथ को जल चढ़ाने बाबाधाम जाते हैं। करीब एक महीने के दौरान (इस बार सिर्फ 29 दिन) हर दिन लाखों लोग भोले बाबा को गंगा जल अर्पण करते हैं। वैसे तो यहां सालों भर श्रद्धालु आते हैं, लेकिन सावन के महीने का विशेष महत्व है।


बाबा भोलेनाथ को जो गंगा जल चढ़ाते हैं, उसे श्रद्धालु बिहार के भागलपुर जिले के सुल्तानगंज से लेकर आते हैं। सावन में महीने में बाबा के भक्त सुल्तानगंज में उत्तरवाहिनी गंगा में डुबकी लगाने के बाद यहां बाबा अजगैबीनाथ की पूजा करते है। पूजा अर्चना के बाद भगवा वस्त्र पहन दो पात्र में गंगा जल भरकर उसे कांवड़ में लगा और कांधे पर रखकर देवघर के लिए निकल पड़ते हैं। कांधे पर कांवड़ रखकर बोल बम- बोल बम के मंत्र को जपते हुए 105 किलोमीटर की तीर्थयात्रा करते हैं।
सुल्तानगंज से बाबाधाम की यात्रा के दौरान कांवड का जमीन से स्पर्श नहीं होता है। विश्राम या नित्यकर्म के दौरान इसे खास तौर पर जगह-जगह बनाए गए बांस या लकड़ी के हैंगर पर रखा जाता है। इस 105 किलोमीटर की यात्रा के दौरान हर एक इंच जमीन बाबा भोले के रंग में रंगी दिखती है। दुनिया का सबसे लंबा यह धार्मिक मेला आस्था और भक्ति में डूबा रहता है। हर ओर सिर्फ बोल बम-बोल बम की गूंज सुनाई देती है। पूरा माहौल भगवा और भक्तिमय होता है।

बताया जाता है कि सबसे पहले भगवान श्रीराम ने सुल्तानगंज से जल भरकर बाबाधाम तक की कांवड़ यात्रा की थी। इसलिए लोग आज भी उस परंपरा का पालन करते हुए हर साल सावन में कांवड़ लेकर जल चढ़ाने बाबा के दरबार में जाते हैं। इस कांवड़ यात्रा के दौरान कई लोगों के पैर में छाले तक पड़ जाते हैं। सुल्तानगंज से बाबाधाम की यात्रा श्रद्धालु अपनी क्षमता के हिसाब से करते हैं। कई लोग चार-दिन भी लगाते हैं तो कई 24 घंटे में पूरा कर लेते हैं। जो लोग इस कावड़ यात्रा को 24 घंटे में पूरा करते हैं उन्हें 'डाक बम' कहा जाता है। सरकार की ओर से इन्हें रास्ते में कोई दिक्कत ना हो इसके लिए पास और कई सुविधाएं भी प्रदान की जाती है।
बाबाधाम पहुंचने पर कांवरिया मंदिर का ध्वजा देखते ही उसे दूर से प्रणाम कर रास्ते में कोई गलती हुई हो तो उसे माफ करने के लिए क्षमा याचना करते हुए दंड बैठक लगाते हैं। फिर शिवगंगा में डुबकी लगा बाबा बैद्यनाथ मंदिर में प्रवेश करते हैं। मंदिर में प्रवेश कर भक्त 12 ज्योतिर्लिंग में से एक बाबा बैद्यनाथ को गंगा जल अर्पित करते हैं। देवों के देव महादेव का घर होने के कारण इसे देवघर भी कहते हैं।

वैसे इस शहर का नाम देवघर है, लेकिन यह बाबाधाम या बैद्यनाथ धाम के नाम से ज्यादा प्रसिद्ध है। बताया जाता है कि यहां सुल्तानगंज से गंगाजल लाकर ज्योतिर्लिंग पर चढ़ाने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं, इसलिए यहां के बाबा भोलेनाथ के शिवलिंग को 'कामना लिंग' भी कहा जाता हैं। इस बैद्यनाथ धाम को वैद्य नाथ धाम के नाम से भी जानते हैं। यहां आने वाले श्रद्धालु खुद को सदा निरोगी होने का वरदान मांगने आते हैं। मान्यता है कि इस वैद्य धाम में आने से सभी रोगों से मुक्ति मिल जाती है। यहां जल चढ़ाने के बाद श्रद्धालु पास ही बाबा बासुकीनाथ मंदिर में भी जलाभिषेक करते हैं।
वैद्यनाथ धाम 12 ज्योतिर्लिंग में एक होने के साथ 51 शक्ति पीठों में से एक है। मान्यता है कि माता सती का हृदय यहीं देवघर की धरा पर गिरा था। उसी स्थल पर भोलेनाथ का कामना लिंग स्थापित हुआ। मंदिर परिसर में भगवान विश्वकर्मा के बनाए भव्य 72 फीट ऊंचे बाबा बैद्यनाथ मंदिर के अलावा अन्य 21 मंदिर हैं। बाबाधाम के मुख्य मंदिर के शीर्ष पर त्रिशूल नहीं, पंचशूल है। मान्यता है कि किसी कारणवश लिंग के दर्शन ना हो पाए तो पंचशूल के दर्शन मात्र से ही भगवान शिव प्रसन्न हो जाते हैं और सभी कामनाएं पूरी हो जाती हैं।

भगवान शिव के कैलाश छोड़ने की बात सुन सभी देवता चिंतित हो गएं। वे भगवान विष्णु के पास गए। तब उन्होंने लीला और वरुण देव से आचमन के जरिए रावण के पेट में घुसने को कहा। आचमन करने के बाद शिवलिंग को लेकर लंका विदा होने पर रावण को रास्ते में देवघर के पास लघुशंका लगी। एक ग्वाले बैजू को शिवलिंग पकड़ा रावण लघुशंका करने चला गया। ग्वाले के भेष में स्वयं भगवान विष्णु थे। काफी देर होने पर जब रावण नहीं लौटे तो ग्वाले ने शिवलिंग को भूमि पर रख दिया। इसके बाद शिवलिंग वहीं स्थापित हो गया। तभी से यह स्थान बैजू ग्वाले के नाम पर बैद्यनाथ धाम और रावण के कारण रावणेश्वर धाम के नाम से जाना जाता है।
बाबाधाम आने वाले भक्त घर वापस जाते वक्त अपने साथ यहां से प्रसाद के रूप में पेड़ा, चूड़ा, सिंदूर, बद्धी माला लेकर जाते हैं। यहां के पेड़े का स्‍वाद दुनिया के किसी भी पेड़े  में नहीं मिलेगा। तिरुपति के लड्डू की तरह ही यहां का पेड़ा दुनिया भर में प्रसिद्ध है। गांव से जो लोग बाबाधाम कांवड़ लेकर जाते हैं वो आने के बाद पूरे गांव में बाबा के प्रसाद पेड़ा को बांटते हैं।

आसपास के दर्शनीय स्थल

नौलखा मंदिर
बाबा बैद्यनाथ मंदिर से करीब 2 किलोमीट की दूरी पर यह मंदिर है। 146 फीट ऊंची इस मंदिर को बनाने में करीब साठ साल पहले नौ लाख रुपये की लागत आई थी, इसलिए इसे नौलखा मंदिर कहते हैं। राधा-कृष्ण का यह मंदिर भारतीय वास्तुशिल्प का एक भव्य नमूना है।
त्रिकुट पहाड़

देवघर से करीब 16 किलोमीटर दूर त्रिकुट पहाड़ है। पहाड़ की तीन चोटियों के नाम ब्रह्मा, विष्णु और महेश होने के कारण इसे त्रिकूट पहाड़ कहा जाता है। विष्णु चोटी पर रोपवे से भी जा सकते हैं। यह एक रोमांचक पर्यटन स्थल के साथ लोकप्रिय पिकनिक स्थल भी है। यहां त्रिकूटांचल मंदिर भी है।
सभी फोटो देवघर झारखंड टूरिज्म
बासुकीनाथ मंदिर

वैद्यनाथ धाम मंदिर से करीब 40 किलोमीटर दूर स्थित है बासुकीनाथ मंदिर। बासुकीनाथ मंदिर परिसर में अलग-अलग देवी-देवताओं के 22 मंदिर हैं।

कैसे पहुंचे
बाबाधाम देवघर रेल, सड़क और हवाई मार्ग से देश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। देवघर में जल्द ही एयरपोर्ट शुरू होने वाला है। उम्मीद है इसी साल सितंबर में यहां से हवाई सेवा शुरू हो जाएगी। फिलहाल नजदीकी  हवाई अड्डा पटना करीब 275 किलोमीटर दूर है। यहां का मुख्य रेलवे स्टेशन जसीडीह करीब सात किलोमीटर की दूरी पर है।

कब पहुंचे
आम तौर पर लोग बरसात में कहीं जाने से बचते हैं लेकिन बाबाधाम की कांवड़ यात्रा श्रावण के महीने में ही शुरू होती है। इसलिए यहां आप सालों भर आ सकते हैं। यहां ठहरने और खाने-पीने की उत्तम व्यवस्था है। यहां आपको कोई दिक्कत नहीं होगी।

ब्लॉग पर आने और इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। अगर आप इस पोस्ट पर अपना विचार, सुझाव या Comment शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा। 

-हितेन्द्र गुप्ता

Comments

Popular posts from this blog

अहिल्या स्थान: जहां प्रभु राम के किया था देवी अहिल्या का उद्धार

मिथिला में एक प्रमुख तीर्थ स्थल है अहिल्या स्थान। हालांकि सरकारी उदासीनता के कारण यह वर्षों से उपेक्षित रहा है। यहां देवी अहिल्या को समर्पित एक मंदिर है। रामायण में गौतम ऋषि की पत्नी देवी अहिल्या का जिक्र है। देवी अहिल्या गौतम ऋषि के श्राप से पत्थर बन गई थीं। जिनका भगवान राम ने उद्धार किया था। देश में शायद यह एकमात्र मंदिर है जहां महिला पुजारी पूजा-अर्चना कराती हैं।

Rajnagar, Madhubani: खंडहर में तब्दील होता राजनगर का राज कैंपस

राजनगर का ऐतिहासिक राज कैंपस खंडहर में तब्दील होता जा रहा है। बिहार के मधुबनी जिला मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह राज कैंपस राज्य सरकार की अनदेखी के कारण उपेक्षित पड़ा हुआ है। यह कैंपस इंक्रीडेबल इंडिया का एक बेहतरीन उदाहरण है। यहां के महल और मंदिर स्थापत्य कला के अद्भूत मिसाल पेश करते हैं। दीवारों पर की गई नक्काशी, कलाकारी और कलाकृति देखकर आप दंग रह जाएंगे।

Contact Us

Work With Me FAM Trips, Blogger Meets या किसी भी तरह के collaboration के लिए guptahitendra [at] gmail.com पर संपर्क करें। Contact me at:- Email – guptagitendra [@] gmail.com Twitter – @GuptaHitendra Instagram – @GuptaHitendra Facebook Page – Hitendra Gupta

अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली: जहां जाने पर आपको मिलेगा स्वर्गिक आनंद

दिल्ली में यमुना नदी के किनारे स्थित स्वामीनारायण मंदिर अपनी वास्तुकला और भव्यता के लिए दुनियाभर में मशहूर है। करीब 100 एकड़ में फैला यह अक्षरधाम मंदिर दुनिया के सबसे बड़े मंदिर परिसर के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल है। यहां हर साल लाखों पर्यटक आते हैं। इस मंदिर को बोचासनवासी श्री अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (BAPS) की ओर से बनाया गया है। इसे आम भक्तों- श्रद्धालुओं के लिए 6 नवंबर, 2005 को खोला गया था।

World Peace Pagoda, Vaishali: विश्व को शांति का संदेश देता वैशाली का विश्व शांति स्तूप

वैशाली का विश्व शांति स्तूप आज भी विश्व को शांति का संदेश दे रहा है। लोकतंत्र की जननी वैशाली ऐतिहासिक धरोहरों का खजाना है। यहां जैन धर्म के प्रवर्तक भगवान महावीर की जन्मस्थली बासोकुंड यानी कुंडलपुर है। अशोक का लाट यानी अशोक स्तंभ, दुनिया का सबसे प्राचीन संसद भवन राजा विशाल का गढ़, बौद्ध स्तूप, अभिषेक पुष्करणी, बावन पोखर और सबसे प्रमुख जापान की ओर बनवाया गया विश्व शांति स्तूप है।

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग: जहां प्रतिदिन शयन करने आते हैं भोलेनाथ महादेव

हिंदू धर्म में ज्योतिर्लिंग का विशेष महत्व है और ओंकारेश्वर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग में चौथा है। मध्यप्रदेश में 12 ज्योतिर्लिंगों में से 2 ज्योतिर्लिंग हैं। एक उज्जैन में महाकाल के रूप में और दूसरा ओंकारेश्वर में ओंकारेश्वर- ममलेश्वर महादेव के रूप में। ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग इंदौर से 77 किलोमीटर पर है। मान्यता है कि सूर्योदय से पहले नर्मदा नदी में स्नान कर ऊं के आकार में बने इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन और परिक्रमा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। यहां भगवान शिव के दर्शन से सभी पाप और कष्ट दूर हो जाते हैं और सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है।

उज्जैन- पृथ्वी का नाभि स्थल है महाकाल की यह नगरी

उज्जैन यानी उज्जयिनी यानी आदि काल से देश की सांस्कृतिक राजधानी। महाकाल की यह नगरी भगवान श्रीकृष्ण की शिक्षास्थली रही है। मध्य प्रदेश के बीचोंबीच स्थित धार्मिक और पौराणिक रूप से दुनिया भर में प्रसिद्ध उज्जैन को मंदिरों का शहर भी कहते हैं।

About Us

Hitendra Gupta घुमक्कड़, ट्रेवल ब्लॉगर, मीडिया प्रोफेशनल और प्रकृति प्रेमी शाकाहारी मैथिल

हिंद-इस्लामी वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण शेरशाह सूरी का मकबरा

शेरशाह सूरी का मकबरा बिहार रोहतास जिले के सासाराम में है। शेरशाह का यह मकबरा एक विशाल सरोवर के बीचोंबीच लाल बलुआ पत्थर से बनाया गया है। शेरशाह ने अपने जीवनकाल में ही इस मकबरे का निर्माण शुरू कर दिया था, लेकिन पूरा उसके मृत्यु के तीन महीने बाद ही हो पाया। शेरशाह की मौत 13 मई, 1545 को कालिंजर किले में हो गई थी और मकबरे का निर्माण 16 अगस्त, 1545 को पूरा हुआ। शेरशाह के शव को कालिंजर से लाकर यहीं दफनाया गया था। इस मकबरे में 24 कब्रें हैं और शेरशाह सूरी की कब्र ठीक बीच में है।

जल मंदिर पावापुरी: भगवान महावीर का निर्वाण स्थल, जहां उन्होंने दिया था पहला और अंतिम उपदेश

जल मंदिर पावापुरी जैन धर्म के अनुयायियों के लिए एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। भगवान महावीर को इसी स्थल पर मोक्ष यानी निर्वाण की प्राप्ति हुई थी। जैन धर्म के लोगों के लिए यह एक पवित्र शहर है। बिहार के नालंदा जिले में राजगीर के पास पावापुरी में यह जल मंदिर है। यह वही जगह है जहां भगवान महावीर ने ज्ञान प्राप्ति के बाद अपना पहला और आखिरी उपदेश दिया था। भगवान महावीर ने इसी जगह से विश्व को अहिंसा के साथ जिओ और जीने दो का संदेश दिया था।