Skip to main content

बजट में कैसे करें देश के सबसे खूबसूरत पर्यटक स्थलों में से एक हिमाचल के चंबा का सफर

चंपावती...चंपा...और अब चंबा. हिमाचल प्रदेश में रावी नदी के किनारे 996 मीटर की ऊंचाई पर हिमालय की घाटी में बसा यह इलाका एक स्वर्ग ही है। जम्मू-कश्मीर से सटे हिमाचल के इस इलाके में प्रकृति ने जमकर खूबसूरती बिखेरी है। मंदिरों से भरा यह क्षेत्र झीलों, सुंदर झरनों, बर्फ से ढके पर्वत और हरे-भरे जंगलों के कारण किसी जन्नत से कम नहीं है।


चंबा जब पृथ्वी पर एक स्वर्ग की तरह है और लोग इसकी तुलना स्विट्जरलैंड से करते हैं तो आपका मन यहां जाने का जरूर करता होगा। लेकिन कई बार आप अपने बजट को देखकर मन मसोसकर रह जाते हैं। सोचते हैं कि जब इतना बढ़िया पर्यटक स्थल है तो काफी महंगा होगा और यहां जाने का प्लान बनाते ही नहीं है, लेकिन आपको दुखी होने की जरूरत नहीं है। हम आपको बताएंगे कि आप चंबा और इसके आसपास के खूबसूरत पर्यटक स्थलों का अपने बजट में किस तरह से घूम-फिर या सैर कर सकें। वैसे बजट से पहले ये तो जान लीजिए कि चंबा में आखिर घूमने लायक क्या-क्या है...

चंबा शहर का नाम यहां के राजा साहिल वर्मन की बेटी राजकुमारी चंपावती के नाम पर पड़ा है। यहां चंपावती एक देवी के रूप में पूजी जाती हैं। राजा ने उनके लिए एक सुंदर मंदिर बनवाया था। इस चंपावती मंदिर को लोग चमेसनी देवी के नाम से पुकारते हैं। मंदिर में शक्ति की देवी महिषासुरमर्दिनी की सुंदर प्रतिमा है। चंपावती मंदिर की वास्तुकला काफी शानदार है। नवरात्रि के दौरान यहां भारी भीड़ होती है। इस मंदिर के सामने एक विशाल मैदान है, जिसे चौगान कहते हैं। चौगान करीब एक किलोमीटर लंबा और 75 मीटर चौड़ा मैदान है। यहां हर साल मिंजर मेले का आयोजन होता है

वैसे तो चंबा के आसपास करीब 75 प्राचीन मंदिर हैं, लेकिन इन मंदिरों में प्रमुख लक्ष्मीनारायण मंदिर, चामुंडा मंदिर, सुई माता मंदिर और कटासन मंदिर हैं।

लक्ष्मी नारायण मंदिर
राजा साहिल वर्मन ने इस शहर के मुख्य मंदिर लक्ष्मी नारायण मंदिर को बनवाया था जो छह मंदिरों का एक समूह है। ये 6 मंदिर भगवान शिव और विष्णु जी को समर्पित हैं। इस परिसर में अन्य मंदिरों में राधा कृष्ण मंदिर, गौरी शंकर मंदिर और शिव मंदिर शामिल है। मंदिर को शिखरा शैली में बनाया गया है। इस मंदिर में एक मंडप जैसी संरचना बनी हुई है। बताया जाता है कि इसे बर्फबारी से बचाने के लिए इस तरह से बनाया गया है।

चामुंडा देवी मंदिर
चामुंडा देवी मंदिर मां काली को समर्पित है। लकड़ी से निर्मित इस मंदिर को 1762 में जोधपुर के राजा उम्मेद सिंह ने बनवाया था। यह मंदिर काफी सुंदर है और यहां के आसपास का इलाका भी काफी खूबसूरत है।

सुई माता मंदिर
यह राजा साहिल वर्मन की रानी को समर्पित मंदिर है। यहां हर साल 15 मार्च से 1 अप्रैल तक एक मेला आयोजित किया जाता है

कटासन देवी मंदिर
चंबा के बाहरी इलाके में स्थित कटासन देवी मंदिर इस क्षेत्र के सबसे प्रमुख आध्यात्मिक स्थलों में से एक है। यह मंदिर पांवटा साहिब क्षेत्र में स्थित है।  बताया जाता है कि पांवटा साहिब की स्थापना सिखों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह देव जी ने की थी।

भगवान शिव और कैलाश पर्वत की इस भूमि चंबा में सिर्फ श्रद्धालु ही नहीं बल्कि प्रकृति प्रेमी के साथ एडवेंचर प्रेमी भी अपने जीवन में एक बार जरूर आना चाहते हैं। पैराग्लाइडिंग, घुड़सवारी, ट्रेकिंग, रिवर राफ्टिंग और कैंपिंग के साथ सैकड़ों मंदिरों के लिए मशहूर चंबा को मिनी स्विटरजरलैंड भी कहा जाता है। चंबा के खज्जियार में लोग स्विटजरलैंड का ही मजा लेने आते हैं।

खज्जियार
खाज्जियार भारत के सबसे पसंदीदा हिल्स स्टेशनों में से एक है। 6,500 फीट की ऊंचाई पर हरी घास, नदियों, झीलों और घने जंगलों के बीच स्थित यह इलाका अपनी प्राकृतिक सुन्दरता और लुभावने नजारों के कारण पर्यटकों के दिल पर अपनी एक अलग ही छाप छोड़ता है। यहां की खूबसूरती से ही मुग्ध होकर खुद स्विस राजदूत ने 7 जुलाई, 1992 में इसे मिनी स्विटजरलैंड की उपाधि दी थी। घने चीड़, देवदार और हरे घास के मैदानों के बीच धौलाधार पर्वत की तलहटी में बसा खज्जियार डलहौजी से करीब 24 किलोमीटर दूर है

खाज्जियार से सिर्फ एक किलोमीटर की दूरी पर भगवान शिव की एक 85 फीट की विशाल प्रतिमा स्थापित है जो हिमाचल प्रदेश में सबसे ऊंची मूर्ति है।

पर्यटकों और प्रेमिकाओं का फेवरिट टूरिस्ट डेस्टिनेशन डलहौज़ी
चंबा जिले में ही है पर्यटकों और प्रेमिकाओं का फेवरिट टूरिस्ट डेस्टिनेशन डलहौज़ी। यहां ज्यादातर प्रेमी जोड़े दिख जाते हैं। इस स्थान का नाम ब्रिटिश जनरल लॉर्ड डलहौज़ी के नाम पर पड़ा है। प्रकृति ने यहां दिल खोलकर अपनी खूबसूरती बिखेरी है। पांच पहाड़ियों- कैथलॉग पोट्रेस, तेहरा , बकरोटा और बोलुन के बीच फैले डलहौजी में चीड़, देवदार, ओक्स और फूलदार रोडोडेंड्रॉन के सुंदर ग्रूव को देखकर आप खुद को किसी मुंबइया फिल्मों के लोकेशन पर पाएंगे। प्राकृतिक सुंदरता के साथ आप यहां मंदिरों के साथ, स्कॉटिश और विक्टोरियन वास्तुकला के बंगले और चर्च को भी देख सकते हैं। यहां की सुरम्य और सफेद घाटियों के बीच आकर पर्यटक सब कुछ भूल यहां खो जाते हैं।
चंबा में कई लेक हैं, लेकिन सबसे लोकप्रिय और खूबसूरत चमेरा लेक और मणिमहेश लेक है। मणिमहेश झील से कैलाश की खूबसूरत चोटी दिखाई देती है।

मणिमहेश झील
मणिमहेश झील हिमालय की पीर पंजाल पर्वत श्रृंखला में करीब 4,080 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस झील के नाम का भगवान शिव के मुकुट में जुड़े मणि पर पड़ा है। झील के दो भाग है, जिसमें से बड़े हिस्से को शिव कारोत्री को भगवान शिव का स्नान स्थल माना जाता है और छोटे हिस्से को गौरी कुंड कहा जाता है। यह झील भगवान शिव के निवास स्थल कैलाश पर्वत के करीब है। इसलिए श्रद्धालुओं के बीच यह काफी लोकप्रिय है।
मणिमहेश मंदिर: यह काफी प्राचीन और सुंदर मंदिर है। पवित्र मणिमहेश झील में स्नान कर श्रद्धालु यहां पूजा अर्चना करते हैं।

चंबा के पास में ही है कालाटॉप वाइल्डलाइफ सेंक्चुरी। सरकार ने इसे वन्य जीवन अभयारण्य घोषित कर रखा है। यह डलहौजी और खज्जियार के रास्ते में एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। हरियाली के बीच स्थित कालाटॉप सेंचुरी करीब 31 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। यहां से आप खूबसूरत पहाड़ी, बर्फ से ढके पहाड़, घाटियों, गांवों, हरियाली को निहार सकते हैं। आप यहां के दिलचस्प नजारों में खो से जाएंगे। यहां आपके मन की एक अलग ही शांति मिलेगी। कालाटॉप एक खूबसूरत वन्य क्षेत्र है।

चंबा में दो लोकप्रिय मेले लगते हैं मिंजर मेला और सुई माता मेला। मिंजर मेला  अगस्त के दूसरे रविवार को आयोजित किया जाता है, जबकि सुई मेला मार्च या अप्रैल के महीनों में मनाया जाता है।
 
कब पहुंचे चंबा-
आप चंबा सालों भर घूमने आ सकते हैं। मार्च से जून के बीच लोग यहां गर्मी से बचने के लिए परिवार संग आते हैं। बारिश में भी यहां का नजारा दिलचस्प रहता है और सर्दी में बर्फबारी के बीच चारों और फैली सफेदी के बीच आप खुद को एक अलग ही दुनिया में पाएंगे। आप जब भी यहां आएं कम से कम 4-5 दिन या हफ्ता भर के लिए जरूर आएं। यहां बिताया एक-एक पल आपके जीवन का सबसे बेशकीमती क्षण होगा।

कैसे पहुँचे चंबा
चंबा का नजदीकी हवाई अड्डा पठानकोट है, जो यहां से करीब 120 किलोमीटर दूर है। कांगड़ा हवाई अड्डा 172 किलोमीटर, अमृतसर 220 किलोमीटर और चंडीगढ़ 400 किलोमीटर की दूरी पर हैं।

चंबा का करीबी रेलवे स्टेशन भी पठानकोट ही है। यहां आप नई दिल्ली से आसानी से पहुंच सकते हैं।

यहां पहुंचने का सबसे आसान उपाय बस या टैक्सी है। हिमाचल पथ परिवहन निगम की बस से आप यहां शिमला, सोलन, कांगड़ा, धर्मशाला और पठानकोट के साथ दिल्ली और चंडीगढ़ से आराम से पहुंच सकते हैं। सरकारी बस सेवाओं के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए क्लिक करें- हिमाचल प्रदेश बस सेवा https://online.hrtchp.com/oprs-web/

चंबा में बजट में कहां ठहरे-
चंबा और इसके आसपास खज्जियार, डलहौजी में बजट में रहने के लिए ढेर सारे ऑप्शन हैं। आप यहां होमस्टे, गेस्ट हाउस या सस्ते होटल में ठहर सकते हैं। बजट में ठहरने के लिए यहां के होमस्टे सबसे अच्छा विकल्प होता है। कई जगह आपको होमस्टे में ब्रेकफास्ट शामिल होता है। आपको 700 रुपये से लेकर 2000 रुपये प्रतिदिन तक में एक से एक जगह मिल जाएंगे। अगर आप एडवांस में बुकिंग कराते हैं तो आपको डिस्काउंट भी मिल जाएंगे। कई गेस्ट हाउस और होमस्टे से तो आप कैलास पर्वत की चोटी का भी दर्शन कर सकते हैं।

Kainthali Cottage
रूम किराया 750 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

Diksha Home Stay - Home Stay Dalhousie Chamba
Chowari, Himachal Pradesh, Indi
रूम किराया 999 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

Himalayan Canvas
Khajjiar, Himachal Pradesh, India
1200 प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

The Glade Manor Homestay Khajjiar
रूम किराया 1800 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

Cedar point
रूम किराया 2150 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

Riverside Homestay In Chamba
रूम किराया 1300 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

Thakur Home stay
रूम किराया 1000 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

रफी हाउस

रूम किराया 500 से 800 रुपये प्रतिदिन प्रति व्यक्ति

इसके साथ ही चंबा जिला पर्यटन विभाग की ओर से भी पर्यटकों के रहने के लिए कई होमस्टे, गेस्ट हाउस और होटल रजिस्टर्ड किए गए हैं। आप यहां भी तसल्ली के साथ अपने बजट में ठहर सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए क्लिक करें- चंबा होमस्टे एंड गेस्ट हाउस

जिला प्रशासन के साथ ही हिमाचल प्रदेश पर्यटन विभाग से सत्यापित होमस्टे में भी आप बिना किसी परेशानी के ठहर सकते हैं। यहां एक से बढ़कर एक होमस्टे और गेस्ट हाइस आपके बजट में मिल जाएंगे। बुकिंग के लिए क्लिक करें- हिमाचल प्रदेश पर्यटन विभाग होमस्टे

ब्लॉग पर आने और इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। अगर आप इस पोस्ट पर अपना विचार, सुझाव या Comment शेयर करेंगे तो हमें अच्छा लगेगा। 

 -हितेन्द्र गुप्ता

Comments

Popular posts from this blog

अहिल्या स्थान: जहां प्रभु राम के किया था देवी अहिल्या का उद्धार

मिथिला में एक प्रमुख तीर्थ स्थल है अहिल्या स्थान। हालांकि सरकारी उदासीनता के कारण यह वर्षों से उपेक्षित रहा है। यहां देवी अहिल्या को समर्पित एक मंदिर है। रामायण में गौतम ऋषि की पत्नी देवी अहिल्या का जिक्र है। देवी अहिल्या गौतम ऋषि के श्राप से पत्थर बन गई थीं। जिनका भगवान राम ने उद्धार किया था। देश में शायद यह एकमात्र मंदिर है जहां महिला पुजारी पूजा-अर्चना कराती हैं।

Rajnagar, Madhubani: खंडहर में तब्दील होता राजनगर का राज कैंपस

राजनगर का ऐतिहासिक राज कैंपस खंडहर में तब्दील होता जा रहा है। बिहार के मधुबनी जिला मुख्यालय से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह राज कैंपस राज्य सरकार की अनदेखी के कारण उपेक्षित पड़ा हुआ है। यह कैंपस इंक्रीडेबल इंडिया का एक बेहतरीन उदाहरण है। यहां के महल और मंदिर स्थापत्य कला के अद्भूत मिसाल पेश करते हैं। दीवारों पर की गई नक्काशी, कलाकारी और कलाकृति देखकर आप दंग रह जाएंगे।

Contact Us

Work With Me FAM Trips, Blogger Meets, Product Launch Events, Product Review या किसी भी तरह के collaboration के लिए guptahitendra [at] gmail.com पर संपर्क करें। Contact me at:- Email – guptagitendra [@] gmail.com Twitter – @GuptaHitendra Instagram – @GuptaHitendra Facebook – GuptaHitendra

अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली: जहां जाने पर आपको मिलेगा स्वर्गिक आनंद

दिल्ली में यमुना नदी के किनारे स्थित स्वामीनारायण मंदिर अपनी वास्तुकला और भव्यता के लिए दुनियाभर में मशहूर है। करीब 100 एकड़ में फैला यह अक्षरधाम मंदिर दुनिया के सबसे बड़े मंदिर परिसर के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल है। यहां हर साल लाखों पर्यटक आते हैं। इस मंदिर को बोचासनवासी श्री अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (BAPS) की ओर से बनाया गया है। इसे आम भक्तों- श्रद्धालुओं के लिए 6 नवंबर, 2005 को खोला गया था।

World Peace Pagoda, Vaishali: विश्व को शांति का संदेश देता वैशाली का विश्व शांति स्तूप

वैशाली का विश्व शांति स्तूप आज भी विश्व को शांति का संदेश दे रहा है। लोकतंत्र की जननी वैशाली ऐतिहासिक धरोहरों का खजाना है। यहां जैन धर्म के प्रवर्तक भगवान महावीर की जन्मस्थली बासोकुंड यानी कुंडलपुर है। अशोक का लाट यानी अशोक स्तंभ, दुनिया का सबसे प्राचीन संसद भवन राजा विशाल का गढ़, बौद्ध स्तूप, अभिषेक पुष्करणी, बावन पोखर और सबसे प्रमुख जापान की ओर बनवाया गया विश्व शांति स्तूप है।

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग: जहां प्रतिदिन शयन करने आते हैं भोलेनाथ महादेव

हिंदू धर्म में ज्योतिर्लिंग का विशेष महत्व है और ओंकारेश्वर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग में चौथा है। मध्यप्रदेश में 12 ज्योतिर्लिंगों में से 2 ज्योतिर्लिंग हैं। एक उज्जैन में महाकाल के रूप में और दूसरा ओंकारेश्वर में ओंकारेश्वर- ममलेश्वर महादेव के रूप में। ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग इंदौर से 77 किलोमीटर पर है। मान्यता है कि सूर्योदय से पहले नर्मदा नदी में स्नान कर ऊं के आकार में बने इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन और परिक्रमा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। यहां भगवान शिव के दर्शन से सभी पाप और कष्ट दूर हो जाते हैं और सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती है।

हिंद-इस्लामी वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण शेरशाह सूरी का मकबरा

शेरशाह सूरी का मकबरा बिहार रोहतास जिले के सासाराम में है। शेरशाह का यह मकबरा एक विशाल सरोवर के बीचोंबीच लाल बलुआ पत्थर से बनाया गया है। शेरशाह ने अपने जीवनकाल में ही इस मकबरे का निर्माण शुरू कर दिया था, लेकिन पूरा उसके मृत्यु के तीन महीने बाद ही हो पाया। शेरशाह की मौत 13 मई, 1545 को कालिंजर किले में हो गई थी और मकबरे का निर्माण 16 अगस्त, 1545 को पूरा हुआ। शेरशाह के शव को कालिंजर से लाकर यहीं दफनाया गया था। इस मकबरे में 24 कब्रें हैं और शेरशाह सूरी की कब्र ठीक बीच में है।

About Us

Hitendra Gupta ट्रेवल ब्लॉगर, मीडिया प्रोफेशनल, डिजिटल इन्फ्लुएंसर और प्रकृति प्रेमी शाकाहारी मैथिल

उज्जैन- पृथ्वी का नाभि स्थल है महाकाल की यह नगरी

उज्जैन यानी उज्जयिनी यानी आदि काल से देश की सांस्कृतिक राजधानी। महाकाल की यह नगरी भगवान श्रीकृष्ण की शिक्षास्थली रही है। मध्य प्रदेश के बीचोंबीच स्थित धार्मिक और पौराणिक रूप से दुनिया भर में प्रसिद्ध उज्जैन को मंदिरों का शहर भी कहते हैं।

जल मंदिर पावापुरी: भगवान महावीर का निर्वाण स्थल, जहां उन्होंने दिया था पहला और अंतिम उपदेश

जल मंदिर पावापुरी जैन धर्म के अनुयायियों के लिए एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। भगवान महावीर को इसी स्थल पर मोक्ष यानी निर्वाण की प्राप्ति हुई थी। जैन धर्म के लोगों के लिए यह एक पवित्र शहर है। बिहार के नालंदा जिले में राजगीर के पास पावापुरी में यह जल मंदिर है। यह वही जगह है जहां भगवान महावीर ने ज्ञान प्राप्ति के बाद अपना पहला और आखिरी उपदेश दिया था। भगवान महावीर ने इसी जगह से विश्व को अहिंसा के साथ जिओ और जीने दो का संदेश दिया था।